Header Ads Widget

Responsive Advertisement

Ticker

10/recent/ticker-posts

कुख्यात लकड़ी तस्कर पन्नु साहू के आतंक के चलते आक्रोश में पूरा गांव

बालोद। जिला में गरीब असहायों पर जुल्म करने के शौक रखने वाले पन्नु साहू की दादागिरी निरंतर जारी है। हरे-भरे पेड़ों के कुख्यात दुश्मन नंबर वन पन्नू अब जीते-जागते इंसान तक को मारने और काटने पर उतारू है। वहीं दादागिरी का शौक के साथ पुलिस और कानून को अपने जेब में रखने का दम भरते हुए गांव में खुलेआम लोगों को धमकी और चुनौती देता है कि मेरा कोई कुछ नहीं उखाड़ सकता है, जिसे भी किसी प्रकार से शक हो तो अजमा सकता है

ज्ञात हो की कुख्यात लकड़ी तस्कर अपने अवैध कारोबार की काली कमाई के पैसों के दम पर अपने आप को बाहुबली साबित करने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है इसकी बानगी बीते दिनों देखने को मिली है। कोसागोंदी निवासी गरीब मजदूर रुपेश कुमार निर्मलकर को पन्नू साहू ने महज इसलिए मारकर उसकी तीन पस्लियां तोड़ डाली क्योंकि रुपेश कुमार निर्मलकर ने पनन्नु साहू के सामने खांस दिया ! आपको बता दें कि, पन्नु साहू ने पहले भी रुपेश कुमार निर्मलकर पर प्राण घातक हमला कर उसके मुंह से दांत और जबड़ा तक उखाड़ दिया था, जिसके बाद भी पन्नु साहू का मन नहीं भरा तो इस बार उसके तीन पसलियां तोड़ डाली। रुपेश कुमार निर्मलकर बेहद ही गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं; जबकि पन्नू साहू सभी रुप से सक्षम है और पैसों की किसी भी प्रकार से कोई कमी नहीं है। अपनी ऊंची पकड़ और ताकत के दम पर पन्नू साहू ने रुपेश कुमार निर्मलकर के ऊपर झुठा रिपोर्ट दर्ज कर जेल भेजने तक की साज़िश रच डाली। वहीं कोसागोंदी में ग्रामीण बैठक कर रुपेश कुमार निर्मलकर के इलाज के खर्च वहन करने के साथ रुपेश कुमार निर्मलकर ने उसके साथ कोई मारपीट नहीं की है यह बात भी स्वीकारी है लेकिन रुपेश कुमार निर्मलकर के हास्पिटल से आते ही अपनी बातों से साफ मुकर गया और रुपेश कुमार निर्मलकर को न्याय के लिए भटकने के लिए छोड़ दिया है। 

रुपेश कुमार निर्मलकर

कोसागोदी के ग्रामीणों में पन्नू साहु के दादागिरी के चलते काफी आक्रोश देखी जा रही है वहीं गुरूर पुलिस के जांच अधिकारी ने अब तक रुपेश कुमार निर्मलकर के शिकायत के आधार पर पन्नू साहू के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की है, जिसके चलते ग्रामीणों के बीच पुलिस प्रसाशन के लिए साफतौर पर नाराजगी देखी जा रही है। सुत्रो के मुताबिक तथाकथित दलालो ने जो पन्नू साहू के अवैध काली कमाई की तंदुरी रोटी का स्वाद चख चुके हैं, उनके सानिध्य में जांच अधिकारी को भी निवछावर भेंट की है अब इन बातों में कितनी सच्चाई है यह तो पन्नू ही अच्छे से बता सकता है बहरहाल रूपेश कुमार निर्मलकर के साथ कोसागोंदी के ग्रामवासी पन्नु के खुलेआम घुमने से भयभीत व परेशान हैं। ग्रामीणों के अनुसार पन्नु साहू ने गरीब मजदूर रुपेश कुमार निर्मलकर को बगैर कारण के मार कर घायल किया है और उसके बाद में उसे झूठी शिकायत कर फर्जी तौर पर फंसाया है; जिसकी उच्चअधिकारियों से शिकायत कर गरीब को न्याय देने के लिए मांग करेंगे।
संजारी बालोद विधानसभा क्षेत्र में विकास कार्यों की भुमी पुजन सम्पन्न ।